INDIA KE LOG PEIDO KA POOJA KYU KARTA HAI?

INDIA KE LOG PEIDO KA POOJA KYU KARTA HAI?
source by google

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभिको Internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज हाम इस पोस्ट में बात करंगे की हामारे देश में लोग पेड़ो को pooja क्यों करता है.इसके पीछे जरुर कुछ ना कुछ बाते छुपे है जोह की बहुत ही कम लोग जानते है. तोह इसीलिए आज में इस पोस्ट के माध्यम से थोडा जानकारी शेयर करनेवाला हु.

भारत में लोग पेड़ो के पूजा क्यों करता है?

पेड़ो के pooja करनेका जोह परंपरा है यह पौराणिक युग का उपधरित है.और कुछ धार्मिक मान्यताये के कारन ऐसा करते है.इसके अलावा जोह लोग ऐसा नहीं करते है वोह भी पेड़ो की अनेक गुणों और फायदे की कारन प्रसंसा करते है.फिर हामे फल,फुल ऑक्सीजन और छाया प्रदान करते है.दोस्तों आज में आपको बाता रहे है की ऐसे कोई कारन जिसके जिसके वजह से भारतीयों लोग tree/पेड़ो का pooja करते है.जैसे भगवन बिष्णु के pooja ब्रम्भा पुरान के अनुसार जब राक्षसों ने भगबान बिष्णु पार आक्रमन कर दिया था तोह पीपल के गाछ में छुप गए थे.इसलिए लोगो का मानना है   की पिपोल की पेढ की pooja करना बिना किसी मूर्ति और मंदिर के भगबान बिष्णु का pooja है.

तोह यह पूर्ति अब्धाराना है ऐसे कुछ लोग मानते है की पबित्रो पेड़ ब्र्म्भा बिष्णु और महेस्स्वर का काम्स्रित रूप है.और लोगो का मानना है जब पेड़ो की pooja करते है तोह इन तीनो का अशिर्बाद मिलता है.फिर त्रिनो लोग का अबधारना पेड़ो के बानावाट के अनुसार उसके सम्बन्ध सायेद प्रिथिबी और पाताल यह त्रिनो लोगो से लोगो का मानना है की पेड़ो को चडाया हुआ चीजे इन त्रिनो लोगो में पहुचते है.

INDIA KE LOG PEIDO KA POOJA KYU KARTA HAI?

फिर पाच ब्रिक्शो भगबान इंद्र के बागिचे में जोह 5 पेड़ था वोह भेद,मंदारा,परिजिता,अब्रुर,सम्तंका,हरिचंदन और कप्ब्रिज.जब पेड़ो की पूजा की बात आता है तोह इस पौराणिक संधब का उदाहरण भी दिया जाता है.फिर संतो से सम्बन्ध कुछ रोग जोड़ते है.pooja किये जाने वाले कुछ पेड़ो को सम्बन्ध महान संतो के होने के कारन इन्हें पबित्र माना जाता है.बरगत को पबित्र माना जाता है क्यों की मार्कंड ने आपने आपको इस पेड़ की सख्ह्यो से छुपाया था.साल की पेड़ इसीलिए पबित्र है क्यों की इसका सम्बन्ध भगबान बुद्ध के जन्म और मृत्यु से जुडा हुआ है.फिर लम्बे बेव्बानी   जीबन के लिए लोग पेड़ को पूजा करते है.भारतीयों कुछ हिस्सों में लडकियों के बिबाह स्थान में प्रतिकत्मन रूप से पिपोल के पेड़ से साधी करा दी जाती है.ताकि उनका बैबाहिक जीबन लम्बा चले.इसके लिए एक धागे को पेड़ के चारो तरफ से बाँध    दिया जाता है.और 108 बार इसका परिक्रमा किया जाता है.पेड़ पार चन्दन का लिप लागाया जाता है और मिटटी का दीपक जालाया जाता है.

फिर भगबान को फल चडाया जाता है कुछ पेड़ो को पबित्र इसीलिए माना जाता है क्यों की बिशेष पेड़ो की पतित्या और फुल और फल भगबान को चडाते है.इसके अलावा कुछ ऐसे पेड़ भी है जिसको pooja के अलाबा इस्तेमाल किया जाना माना है.

तोह दोस्तों अब आप जान गये होंगे की भारत के लोग पेड़ो को इतने मानते क्यों है और उसके pooja क्यों करते है.उम्मीद करता हु आपको यह जानकरी पसंद आएगा और इस जानकारी से जुड़े हुए आपके मन में कीसी भी   तरह का सावाल/सुझाब रहता है तोह आप निचे दिए हुए कमेन्ट box का मदत लेकर मेरे साथ शेयर कर सकते है.धन्न्य्बाद.

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम मिथुन है,और में इस वेबसाइट को 2016 में बानाया हु.और इस वेबसाइट को बानानेका मेरा मूल मकसद यह है की लोगो को इन्टरनेट के माध्यम से हिंदी में इन्टरनेट की जानकारी प्रदान करना.इसीलिए इस वेबसाइट का नाम Internetsikho राखा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.