DHAN PREM AUR SAFALATA

0

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internet sikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों हामसब के जीबन जीने के लिए धन,प्रेम औए सफलता का बहुत जरुरत है.पार सावाल यह उठता है की dhan प्रेम और सफलता को कैसे हासिल किया जाये? में इस स्टोरी के माध्यम से इस बात को समझाने का कौशिश करूँगा.

dhan प्रेम सफलता से जुड़े एक रोमांचक काहानी

एकबार एक औरत आपनी घर से निकल रही थी तोह जैसे ही वोह घर से बाहार निकली और घर के बाहार 3 लम्बे दाढ़ी वाले साधू को बैठे हुआ देखा.तोह वोह उन्हें पहचान नहीं पाया तोह उसने साधू के पास गया और बोला की में आपलोगों को नहीं जानता हु,आपलोगों को यहाँ क्या काम है?तोह उनसब साधुओ ने काहा की भोजोन करना है.तोह उस औरत ने काहा ठीक है आपको आगर भोजोन करना है तोह मेरे घर के अन्दर आईये और में आपको भोजोन करा देता हु.तोह उनमे से एक साधू ने पुछा की आपका पति घर पार है?तोह उस औरत ने बोला नहीं.वोह कुछ देर के लिए बाहार गया है.तोह तब 3 साधू एकसाथ बोले की हाम अन्दर नहीं आ सकते है.जब आपके पति घर पार आजायेगा हाम तभी अन्दर आयेंगे और तभी भोजोन करेंगे.तोह उस औरत ने काहा ठीक है.

थोड़ी देर बाद उस औरत क आपति आपस आया तोह उस औरत ने आपने पति को साधू का बात बाताई तोह पति ने काहा ठीक है अन्दर बुलाओ.फिर उस औरत ने साधू के पास गया और बोला मेरा पति अब घर आपस आगया है आपलोग घर के अन्दर आ सकते है.तोह उन् साधू ने उस औरत को बाताया की हाम 3 जन एकसाथ गृह में प्रबेश नहीं करते है.तोह उस औरत ने पूछा ऐसा क्यों?तोह उन् साधुओ के बिच में एक साधू ने बोला पुत्री मेरे राईट साइड में जोह साधू है वोह dhan है और मेरे लेफ्ट साइड में जोह साधू है वोह सफलता है,और में प्रेम हु.                                                 अब जाओ तुम आपने पति से पुछो की हाम तीनो मे से किसको बुलाना चाहते है.तोह औरत अन्दर अन्दर गयी और अपनी पति को सारे बाते बाताई तोह उसका पति बहुत जादा खुस हो गया उससे बहुत आनंद आराहा था उस पति ने पत्नी को बोला चलो हामलोग जल्दी से dhan को बुला लेते है,उसके आने से हामारे घर में धन दौलत से भर जाएगा.और फिर हामारे पास कभी पैसे की कमी नहीं रहेगी.तोह औरत बोली क्यों ना हाम सफलता को बुला लेते उसके आने से हाम जोह करेंगे वोह सही होगा और हाम देखते देखते धन दौलत का मालिक बन जायेंगे.तोह उसके पति ने काहा की हा तुम्हारी बात भी सही है.पार इसमें हामे महनत करनी पड़ेगा मुझे लागता है की dhan को ही बुला लेना चाहिए.तोह थोड़ी देर बाद उनकी वेस चलते रहे पार वोह किसी एक को बुलानेका निश्चित नहीं कर पाया था.

तोह अंत में उन्होंने एक डिसिशन लिया की वोह साधू से कहेंगे की धनि और सफलता में जोह भी आना चाहते है वोह आ सकते है.तोह उनके बात सुनकर साधू एक दुसरे के मुह देखने लागे बिना कुछ कहे उनके घर से दूर जाने लागे तोह उस औरत ने पूछा उन्हें रोका और काहा की आपलोग इस तरह से क्यों आपस जा रहे है.तोह तब साधू ने उत्तर दिया की पुत्री दरअसल हाम तीनो साधू इसी तरह घर घर जाते है और घर में प्रबेश करनेका प्रयास करते है और जोह बेकती लालच में आकर धन और सफलता को बुलाता है हाम वोह से लौट जाते है.और जोह आपनी घर में प्रेम का प्रयास चाहता है और आपने घर में प्रेम को लाना चाहता है उसके साथ साथ सभी प्रबेश कर जाते है धन भी सफलता भी और प्रेम को तोह उन्होंने बुलाया है.

तोह दोस्तों इस काहानी से में आपको यह समझाने की कोशिस कर राहा हु की जाहा प्रेम होता है वोह dhan भी होता है,और साथ में सफलता भी.आगर आपके पास प्रेम है तोह आपके पास ना तोह कभी धन की कमी होगी और ना ही सफलता की कमी.तोह दोस्तों आप समझ गए होंगे की आपको क्या करना है आगर आपके पास प्रेम है तोह धन भी है और सफलता भी.तोह दोस्तों मेरा कहने का मतलब यह है की दुसरे से प्रेम  करना सीखे ,और प्रेम से एक दुसरे से सम्बन्ध बानाये राखे.दोस्तों मुझे उम्मीद है आपको यह स्टोरी आछा लागेगा.और भी ऐसे interesting स्टोरी के बारे में जानने के लिए internet sikho में विजिट करते रहिये..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.