KUCH BHI KAAM KARNA HI HAI TOH APNA SAMAJH KE HI KARE

2

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज इस पोस्ट में मैंने आपको एक बहुत ही जरुरी और मदतगारी टॉपिक के बारे में बातानेवाला हु जोह की आपने जीबन के लिए बहुती ही जरुरी है.दोस्तों हाम सभीने कोई ना कोई किसी कंपनी या किसीके पास काम करते ही है या फिर खुद busniess करते है.लेकिन जोह काम हाम खुदके busniess के लिए करते है वोह थोडा स्पेशल या बेहतर तरीके से करने का प्रयास करते है.लेकिन हम ऐसा क्यों करते है?                                                                                                 लेकिन जब हाम किसी दुसरे के लिए या किसी कंपनी के लिए मजूरी में उसके काम करते है तब आपने दिमाग में यह नहीं सोचते है की हामको यह काम भी आपना है और इससे बेहतर तरीके से करना है.तब हाम ऐसे नहीं सोचकर वल्कि ठीक उसके उलटे सोचते है और जितना जल्दी जैसे भी करके काम ख़तम करना है और मजूरी लेना है बास येही सोच रहता है जादा से लोगो के दिमाग में.

कुछ भी काम आपने समझ के ही करना चाहिए 

तोह दोस्तों आप अगर ऐसे रेगुलर करते आये तोह आपको यह काहानी सुनकर आपको चटका लाग सकता है.और आप आगे से ऐसे कभी नहीं करोगे यह में sure हु.और आप जब भी कोई काम करेंगे आपना समझकर ही करेंगे.तोह दोस्तों आज में एक कारपेंटर की काहानी बाताऊंगा जिसके अन्दर यह टॉपिक का example दिया हुआ है और आप आसानी से समझ भी सकते है.आजका काहानि एक ऐसा कारपेंटर की है जिसने आपनी जीबन में 40 साल तक इमानदारी और 100% के साथ काम किया है,और उनको retirerment चाहिए था क्यों की उनके age 60 years हो गया था.तोह उसने आपने बस को बोला की सर अब में retire होना चाहता हु और बाकी जीबन में आपना परिबार के साथ रहकर बिताना चाहता हु .तब बस ने बोला एक लास्ट प्रोजेक्ट आया इसको पूरा करदे और उसके बाद हामसब मिलकर तेरा रिटायरमेंट पार्टी मानायेंगे.तोह आप अगर उस jaige पे होते तोह क्या बोलते थे हा या ना.तोह उसने भी हा ही बोला.लेकिन प्रॉब्लम यह आगया की कारपेंटर को घर पे बैठ के आराम करना था but उनको बोस के वजह से काम पे आना पढ़ राहा है.आजतक उसने जितना भी घर बानाया पूरा मन से किया लेकिन अब आधा मन से कर राहा है.

उसने जीबन में बेस्ट से बेस्ट घर बानाया है लेकिन उनका आखरी घर ना ही आछा से पब्लिशिंग की ना ही आछा से furnituing की ना ही आछे से पेंटिंग की ऐसे आधे आधुरा मन से 2 महीने में घर बानाके तैयार कर दिया.अब बोस ने जब घर को देखने आया और काहा यह ले घर की चाबी जोह गहर तूने बनाए है यह मेरे तरफ से तेरेको तोफा दे राहा हु क्यों की यह जोह तू 40 साल मेरे यहा काम किया उसके लिए.दोस्तों अब आप सोचो उस कारपेंटर के मन में क्या चल रहा होगा की काश यह घर मेरा होगा पहले मुझे पाता चलता था तोह में लाइफ के बेस्ट से बेस्ट बानानेका प्रयास करते थे क्यों की वोह घर मेरा होता.तोह में कैरिएर के worst घर बानाने के jaiga कैरिएर के बेस्ट घर बानाते थे.और उस घर के एक एक furnishing एक एक रेलिंग एक एक पेंटिंग बेस्ट करता था क्यों की यह घर मेरा है.

दोस्तों इस कारपेंटर की जैसे ही हामसब आनेअले काल बाना राहा है हर रोज पोलिशिंग कर रहे है हर रोज नैलिंग कर रहे है हर रोज hammering कर रहे क्यों की आनेवाले दिन अच्छे हो.हाम में से बहुत सारे लोग आनेवाले दिन के लिए बहुत कुछ एक्शन ले राहा है और उसमे से कुछ लोग कहेंगे काश और काश ,अगर आप एक स्टूडेंट हो या busniesman हो तोह आप हर रोज आपने आनेवाले काल बाना रहे हो.और आपके आनेवाले दिन कैसा रहेगा आपके हर दिन के एक एक एक्शन पे निर्भर करता है.

और आपके काम के साथ आपके efforts और cometment 100% है तोह आपके सफलता को कोई नहीं रोक सकता है.तोह दोस्तों keep doing hard work and follow a dreams and let success. तोह दोस्तों यह काहानी आपको कैसा लागा आप जरुर मुझे कमेंट box में बाताये कमेंट करके.और इस काहानी से आपके कोई सुझाब या फिर सावाल रहता है तोह वोह भी आप मुझे पूछ सकते है.

 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.