NIRMA WASHING POWDER STORY

0

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internet sikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज में एक ऐसे काहानी के बारे में आपलोगों बातानेवाला हु जोह की एक बहुत ही सफल काहानी है और इस काहानी से हामे यह सिखने को मिलता है की जीबन में सफलता के लिए क्या क्या ही ना करना पड़ता है.और आजके जोह काहानी है वोह NIRMA washing powder की है.तोह आज में आपको बाताऊंगा की यह निरमा कंपनी कैसे बने है और इस सफलता के पीछे क्या राज छुपा है उसके बारे में बातानेवाला हु.

NIRMA washing powder की सफलता की काहानी हिंदी में 

अपनी बेटी निरुपमा के डेथ के बड़ा कर्संभई पटेल ने उसी के घर पे बुलाये जाने वाले नाम निरमा से NIRMA washing powder बानानेका शुरुवात किया था.उन्होंने आपनी BSC chemestry के experiance के दम पार आपने घर पे backspace में वाशिंग पाउडर बानाना शुरू कर दिया था.वोह रोज सुभे आपनी साइकिल पे ऑफिस जाते समय निरमा को door to door सेल करते हुए निकलते है.और ऑफिस ख़तम होते हुए ही दोबारा यह बेचते हुए घर आजाते थे.करसनभाई ने 3  साल से ऐसे ही निरमा बेचे और यह 3 सालो में काफी time मिल गया अपना consumer base बानाने का और साथ ही साथ खुदको और आपने प्रोडक्ट को improved करते चले जानेका.1969 में जाहा एक तरफ हिन्दुस्थान उनिलिवर लिमिटेड (HUL) का  सर्फ एक्सेल 13 रूपया में बिक राहा था वोही वोह निरमा उससे 3.50 रूपया में बेचकर मिडिल क्लास लोगो को खुश कर रहे थे.

फिर 1972 में उन्होंने आपनी जॉब छोरकर अहमदाबाद के एक छोटे से इलाके में एक दूकान खोल लिया और येही से उन्हें उनकी प्रोडक्ट ने लोकल लोगो के बिच तेजी पकड़ने शुरू कर दिया.जैसे जैसे उनका काम बढ़ते चला गया और सेल्समेन और workers को higher करते चला गया.और इसी तरह कुछ सालो के अंदर अंदर निरमा ने गुजरात ने आपनी पकड़ बाना ली.लेकिन गुजरात से बाहार निकलकर निरमा को बाकी सहर में काफी निराशा का सामना करना पढ़ा है.क्यों की वोहा retaliers उनसे क्रेडिट पार माल उठाते थे और जब कोई माहीने बाद उनके सेल्समेन पेमेंट कलेक्ट करने आता तोह दुकानदार उससे भागा देता था या फिर पैसो को अलग माहीने में लटका देता था.उस समय मार्किट में अब्दे बढे multi नेशनल ब्रांड्स के बिच निरमा सर्वे भी नहीं कर पा राहा था.और धीरे धीरे उसका सेल्स भी गिरने लागा था.यह देख के करसनभाई ने आपनी सभी employees को immidiate मीटिंग बुलाया और सबको स्ट्रिक्ट आर्डर दे दिया है की जोह पेमेंट करता है करे नहीं तोह मार्किट से आपना सारा माल उठाओ और आगे की सप्लाई भी रोक दो.और रातो रात मार्किट से NIRMA washing powder गाएब हो जाने के बाद सभी रिटेलर्स और कस्टमर्स को थोडा झटका लागा.लेकिन करसनभाई के दिमाग में एक अलग ही गेम चल राहा था.उस समय हामारा देश बहुत तेजी से बदल राहा था और लोगो के घरो में tv भी बहुत तेजी पहुचते चले जा राहा था.तोह जैसे ही उनका स्टॉक मार्किट से आपोस आया उन्होंने आपना सारा पैसा दूरदर्शन पार एक माहीने एडवरटाइजिंग पे  एडवरटाइजिंग दिखवाने पे लागा दिया.इस ऐड ने मार्किट में इतना बड़ा इम्पेक्ट छोरा की अब हर किसीको बास निरमा  चाहिए था.

निरमा वाशिंग पाउडर की सफ़लता की राज 

लोग डेली दुकानों पे निरमा मांगने पहुच जाते थे पार निरमा कोई भी jaiga पे मिलता ही नहीं था.दूकान वाले भी इतने दुखी हो गया की पीछे से निरमा वाले सप्लाई नहीं दे राहा है और लोगो के डिमांड पे डिमांड बढ़ते जा रहा है.करसनभाई ने फिरसे आपनी टीम की मीटिंग बुलाया और इस बार निरमा की सप्लाई continiue करते हुए उन्होंने सभी के हाथ में एक terms and conditions का पेपर दे दिया जिसमे मोटे मोटे अक्षर में यह लिखा है की अबसे निरमा के कोई भी प्रोडक्ट क्रेडिट पे नहीं देगा cash on delivery करो और चलते बनो.और इस एक decesion ने रातो रात उनके ब्रांड निरमा की इमेज बदल दी.और उन्हें उस वक्त की टॉप busniess पल्येर्स की लाइन में जोड़ दिया और आज निरमा 20000 employees को जॉब provide करते है.इस कहानी को ख़तम करने से पहले आपको 2 लाइन कहना चाहता हु.

की दुनिया की चाका चाँद में 

हामे एक कामयाब इंसान का 

संघर्ष नहीं दीखता

‘उसके महंगे कपड़ो के निचे धुप 

में टपा शारीर नहीं दीखता ”

”जिस मुकाम पार आज वोह पहुचे है 

उस मुकाम का चुकाया मुआबजा नहीं दीखता”.

दोस्तों यह था NIRMA WASHING POWDER की सफलता की काहानी.और उम्मीद है की इस काहानी से हामे जरुर कुच्छ ना कुछ सिख मिलता है.तोह आपको इस काहानी से आपको क्या सिख मिला वोह आप जरुर निचे कमेंट box का उपोयोग करके बाताये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.