Earthing Kya Hai?Earthing Ki Puri Jankari Hindi Mein

2
Earthing Kya Hai?Earthing Ki Puri Jankari Hindi Mein

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको Internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज हाम इस पोस्ट में Earthing यानि की भू तार के बारे में जानकारी देनेवाला हु.दिन के दिन दुनिया बहुत सोखिंन होते जा राहा है,र लोग महंगे से महंगे सामग्री लागाकर अपने घर की वायरिंग करने  के लिए ब्यस्त है चाहे उसमे कितने भी पैसे क्यों ना खर्च करना पढ़े फिर भी उन्हें महंगे सामग्री का  ही इस्तेमाल करके अपने घरो को आकर्षिक बनाना है.हजारो रुपया खर्च करके वायरिंग को सुन्दर और designedar बानानेका प्रयास करते है.उस समय लोग जादातर कुछ important बातो के उपर ध्यान नहीं देता है.जैसे की हमारे घरो में 220 के high voltage का ac supply दिया जाता है.एकबार जब घर वायरिंग  जाता है और उसमे उपोयोग किया हुआ तार में कोई प्रॉब्लम आ भी सकते है.कभी कभी तोह झटके भी लग जाता है जिसमे आदमी को हॉस्पिटल तक भी जाना पड़ता है.

लेकिन आप अगर अपने घर को वायरिंग करवाने के समय ही कुछ बातो का ध्यान में रखते है ,जैसे की Earthing यानि की भू तार का भी connection कर दिया जाये तोह बाद में किसी भी तरह अनिश्चित स्थिति से और कोई बड़ा नुक्सान होने के हाथ से बाच सकते है.और Earthing के वजह से झटके लागने का चांस भी बहुत हि कम रहता है.लेकिन येह्सब बातो को बहुत कम लोगो ने ही जानते है.इसीलिए हमने निर्णय लिया किया आपको इसी पोस्ट के माध्यम से Earthing से जुड़े सभी तरह के सावाल के जवाब देनेका प्रयास करूँगा  Earthing क्या है?Earthing लागाना क्यों जरुरी  है ?Earthing में कितने खर्च होता है?Earthing लागानेका क्या फायदा और क्या नुक्सान है?

Earthing क्या है?Earthing का क्या काम है?

Earthing घर की वायरिंग करते समय इस्तेमाल किया जानेवाला एक ऐसा वायर है जिससे आपके घरो में बिजली के आदानप्रदान सुरक्षित तरीके से सन्चालन होता है.अगर घर में बिजली कनेक्शन में किसी भी तरह का fault आजाये और अगर आपके वायरिंग में Earthing यानि की भू तार का इस्तेमाल किया गया है तोह लगे हुए  कोई भी इलेक्ट्रॉनिक  चीजे का नुक्सान नहीं होता है.और किसी भी खाराप उपकरन को छूने के बाद शारीर को झटका नहीं लागता है.और Earthing यानि की भू तार के कवर हरे रंग होता है.

 Earthing connection कैसे निकाला जाता है?

हम सभी जानते है की बिजली के आदान प्रदान करने के लिए 2 connection wires का जरुरत पढता है .उसमे से एक गर्मी का wire बिजली पोल के तार से जोड़ा जाता है और दूसरा ठंडी के wire के connection को धरती से निकाला जाता है.इन दोनों connection को अछि तरह से निकाल लेनेका बाद किसी भीउपकरन का इस्तेमाल किया जा सकता है .लेकिन Earthing का कनेक्शन बिजली के इस्तेमाल के लिए नहीं वल्कि बिजली के सुरक्षा के लिए किया जाता है.

जिस तरह से ठंडी का कनेक्शन धरती से निकाला जाता है ठीक उसी तरह Earthing यानि की भू तार के लिए कनेक्शन wire को भी धरती से निकाला जाता है.इसके बाद धरती से निकलने के बाद इस तार का कनेक्शन सिर्फ इलेक्ट्रिक बोर्ड के 5 plug सोकेट से ही किया जाता है.

Earthing Kya Hai?Earthing Ki Puri Jankari Hindi Mein

 

इलेक्ट्रिक उपकरन में Earthing का connection कैसे होता है?

बिजली में काम करने वाला किसी भी उपकरन को power के रूप में 220v ac दिया जाता है.सभी उपकरन को बिजली बोर्ड से connect करने के लिए उसमे एक connection wire लागा हुआ रहता है.और उस तार के माध्यम से ही  current उस उपकरन तक पहुचता है.लेकिन इस wire को बिजली बोर्ड से कनेक्ट करने के लिए उसमे एक पॉवर plug भी लागा हुआ होता है जिसे बोर्ड के सोकेट में लागाया जाता है.

अगर आप ऐसे हि कुछ इलेक्ट्रिक उपकरनो का इस्तेमाल किया हुआ होगा तोह आपने इस बात पार गौर जरुर किये होंगे की किसी भी उपकरन के कनेक्शन wire के plug में सिर्फ 2 पिन ही होता है तोह किसी उपकरन के प्लग में 3 पिन भी लागा हुआ होता है.

3 पिन वाले इलेक्ट्रिक उपकरन के प्लग में 2 कनेक्शन पिन तो इनपुट supply के लिए ही होते है लेकिन इसका सबसे ऊपर वाला तीसरा पिन जोह होता है वोह पिन ही Earthing कनेक्शन के लिए लागा हुआ होता है.ठिक इसी तरह से आयरन के power plug में भी 3 पिन लागे होते है जिनमे से सबसे ऊपर वाला पिन भू तार की कनेक्शन के लिए ही होता है.साथ ही Earthing वाला पिन किसी भी उपकरन के कैबिनेट से  कनेक्शन किया हुआ होता है.

Earthing Kya Hai?Earthing Ki Puri Jankari Hindi Mein
image source by google
Earthing कोन कोन इलेक्ट्रिक उपकरन में इस्तेमाल किया जाता है?

ऐसे  बहुत सारे ऐसे इलेक्ट्रिक उपकरनो  है जिनमें Earthing यानि की भू तार के कनेक्शन किया जाता है.और बहुत सारे ऐसे भी उपकरन है जिनमे यह कनेक्शन नहीं किया जाता है.Earthing connection का उपोयोग का एक अच्छा सा   उदहारन है electric iron.iron एक ऐसा जंत्र है जिसका इस्तेमाल आजकल लगभग सभी घरो में कपडे प्रेस करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.इस उपकरन में Earthing connection को  बहुत ही सरल तरीके से किया गया है.

कभी कभी technical fault के कारन कपडे को प्रेस करते समय आयरन से झटका भी लागता है.और आयरन से झटका लगने के कोई वजह हो सकते है लेकिन यह समसस्य जादातर हामारे असाबधानी की वजह से ही आता है.इन्ही आसाबधनियों में से एक है घर में Earthing कनेक्शन ना करवाना.

क्यों कि iron में Earthing connection के लिए बिकल्प तोह दिया हुआ होता है लेकिन सही जानकारी नहीं होने के वजह से लोग उस कनेक्शन को फ़ालतू का समझ बैठते है और उसकी वायरिंग नहीं करवाते है.फिर बाद में जब ऐसे इलेक्ट्रिक उपकरन इस्तेमाल करने वक्त कोई समस्सया  आता है और उसके कैबिनेट से sparking होने लागते है जिससे लोगो को शारीरिक नुक्सान भी उठाना पड़ता है.जादातर हमें यह बात का ध्यान राखना है की जिस जिस इलेक्ट्रिक उपकरन में 3 pin वाला power plug का कनेक्शन है उस बोर्ड के लिए Earthing यानि की भू तार कनेक्शन का होना जरुरी है.

Earthing connection कैसे काम करता है? 

जब भी कीसी उपकरन में sparking का समस्या आता है तोह इसका मतलब यह होता है की उस उपकरन के कैबिनेट के संपर्क में current प्रबाहित कोई तार आगया है.लेकिन उस उपकरन के कैबिनेट से Earthing कनेक्शन जुडा हुआ होता है,इसीलिए जड़ी घर में Earthing की वायरिंग किtonया हुआ होता तोह उस उपकरन के  कैबिनेट से होते हुए Earthing वाले वायर के द्वारा सभी porton(+)धरती में समाहित होने लाग जाता है.

ऐसे में sparking होने के बाबजूद भी उस उपकरन से छू जाने के बाद भी शारीर को कोई नुक्सान नहीं पहुचता है.क्यों की Earthing की वायरिंग के वजह से भले ही sparking होने वाले उपकरन को छू लेने से भी कोई हानि  ना हो लेकिन जड़ी उस उपकरन के कैबिनेट से ac tester को सटाकर बिद्द्युत के मोजूदोगी की जांच किया जाए तोह झटका नहीं लागने के बाबजूद भी टेस्टर के led bulb जलेंगे.

साथ में आपको इस बात का भी ध्यान राखना होगा की Earthing कनेक्शन के दोरान किसी भी उपकरन में स्पार्किंग की वजह से जादा बिजली का अपचय भी  सकता है इ भरी मात्रा में बिल आ सकता है.इसीलिए यदि कभी भी किसी इलेक्ट्रिक उपकरन में स्पार्किंग का शक हो तोह तुरंत उसकी मेरामत करवा ले अजथा आपको आर्थिक और शारीरिक नुक्सान का सामना करना पढ़ सकता है.

 

दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको Earthing  की यानि भू  तार से जुड़े हुए सारे सावालो का जवाब देनेका प्रयास किया हु.उम्मीद करता हु आपको यह जानकारी पसंद आएगा.और इस जानकारी से जुड़े आपके मन में कोई सावाल रहता है तोह आप निचे कमेंट box में comment करके बाता सकते है.धन्यबाद..

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.