हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिर से आप सबको internet sikho  में बहुत बहुत स्वगत है.
दोस्तों  आज  8th march है और  आज  यह  दिन  को  महिलायो   के   लिए बहुत  ही  ख़ास  दिन  है  क्यों  की आज सारे  दुनिया  में  international womens day को  celebrate किया जाता  है  .तोह  में  दिल से समोस्तो  महिलायों  को  internet sikho की तरफ से  happy womens day का  बहुत  बहुत  बाधाइ देना  चाहता  हु.
                                 ” ALL YOUR LOVE,ALL YOUR CARING WAYS,
                                        ALL YOUR GIVING THESE YEARS ARE
                                    THE REASONS WHY MY HEART THINKS OF,
                                         YOU ON WOMEN’S DAY.WITH A WISH FOR
                                      HAPPINESS AND A WORLD FULL OF LOVE

womens day से जुड़े हुए कुछ बाते      

 
दोस्तों   आज में  आपलोगों  के साथ यह  भी  share करने  जा  राहा  हु  की  international womens day कबसे मानाया जा रहे  है  और क्यों मानाया  जा  राहा  है  और  इसके  पीछे  क्या  काहानी  है  यह सबके बारे  में  आपको  details में  इस  पोस्ट में  बाताऊंगा तोह  कृपया करके  पुरे  पोस्ट को पढ़े .
नारी तुम  प्रेम हो  बिस्वास  हो  आस्था  हो टूटी हुयी उमीदो  की  एक मात्रो  आशा हो  .हर  जान  का तुम्ही एक  आधार  हो  .नफरत की  दुनिया  में  सिर्फ  तुम  ही  एक  प्यार  हो .उठो  आपने  अस्तित्तो  को  स्संभालो केबल  एक  ही दिन  नहीं  हर दिन  मानाये.
INTERNATIONAL WOMENS DAY 2017 KYU MANAYA JATA HAI

womens day क्यों मानाया जाता है?

आज है  8th march अंतराष्ट्रियो  महिला  दिन .दुनिया के  बिभिन्नो  खेत्रो  में  महिलायों  के  प्रतिक  सम्मान ,प्रसंसा  करते  हुए  इस  दिन  को  मानाया  जाता  है .यह  बिशेष दिन  अलग  अलग  खेत्रो  में  आमकारी  महिलायों  का  आदर  करने  और  उनके  उपोलाब्धो का  उतशाह  मानाने  का  दिन  है .अमेरिका  में  socialist party के  अध्यन  पार  28 february 1909 को  सबसे  पहले  यह  दिनको  मानाया गया  था .जिसके  पीछे  महिला  एकिकारन  का  उद्देशो  था .france के  क्रांति के  दोरान जब महिलायों  ने  बिश्ययुद्धो के बाद  अभी  और  काँधे  से  कान्धे  मिलाकर  सहयोग  दिया और  आपने  अधिकार  के  लिए  आवाज़  उठाई  तव हर एक  देश  में  महिलायों  के  अधिकार  के  लिए हरताल होने  लागा .उस  समय  ही  सभी  देशो  में  महिलायों  को  एकोत्रो  करने के  लिए  महिला  यानि की womens day मानाने  जाने  लागा .और यह  रुष ने   पहली बार   1917 में महिलायों को  माता  दी  का प्राप्त हुआ .इस तरह  आमेरिका  की social group ने  1910 में  8 march को  पहला  महिला  दिबस मानाना  शुरू  कर दिया  था .

 

womens day मानाने का मूल उदेश्य  क्या है? 

 नारी यह कोई  सामान्य शब्दों  नहीं  है  वल्कि  एक  ऐसा शब्दों  या  सम्मान  है  जिससे  नारी  का स्थान बैदिक  काल  से  ही देवी तुल्ल्यो  माना  जाता  है  .उनकी तुलोना  देवी देवता  और भगबान से  भी  किया  जाता  है .
जब  भी  घर  में  बेटी  का  जनम  होता है  या फिर  नबो  बिबाहित  बहुत  आती है तोह  उसकी  तुलोना  lलक्ष्मी  की आगमन  से  किया जाता  है .यह सम्मान  केबल नारी को  ही  प्राप्त होता है .युग युग  के  बेद पुराणों  से  चला  आराहा  है  .आज हर एक खेत्रो में नारी आगे  है चाहे  वोह  घर  हो  या  ऑफिस  हो .लडकिया लडको  के साथ कंधो  से  कंधे  मिलाकर  चल रही  है .अपनी  tallent को  हर  तरह से साबित  कर  रही  है .इसके  हामारे  पास  काफी सारे  example है  जैसे  की इंदिरा  गांधी  ,मदर  टेरेसा ,लता मंगेशकर ,कल्पना चावला  इन्होने  नाही  सिर्फ  आपना वजूतो    को  साबित  किया  वल्कि  हामें  और  आपने  देश को  गर्व मेह्सुसो के जैसा  काम किया है .
तोह ऐसी  नारी शक्ति  को  internet sikho की तरफ से कोटी कोटी प्रनाम और सुभोकामोनाये .
                      दोस्तों  आपको  यह  पोस्ट कैसा  लागा  जरुर मुझे   बातायेइगा  comment box में  comment करके .और हा  आपने  दोस्तों  के  साथ  भी इससे  शेयर  करना ना भूले .और ऐसे  ही खास  topic के  बारे में  जानकारी प्राप्त करने  के  लिए हरदिन   internet sikho में  visit करते  रहिये क्यों की में  यहापर  कुछ  ऐसे  ही  खास  topic लेकर आता  हु  और प्रत्यह कुछ  नया नया चीजे  सिखने/जानने  को  मिलता  है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.