हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों ऐसे तोह आजके दिन में हाम सब internet का इस्तेमाल करते है.लेकिन क्या आपके मन  में कभी यह  सावाल उठे है की internet का   मालिक कोन है?internet को किसने चालाता है? और अगर आपको यह सारे सावाल का जवाब नहीं पाता है तोह    कृपया करके पूरी पोस्ट को पढ़े क्यों की मैंने इस पोस्ट में आपके सारे साबालो के जवाब देनेका प्रयास किया हु जिससे आप आसानी से समझ सकते है इन्टरनेट को और साथ में यह भी जान सकते है की इन्टरनेट का मालिक कोन है और इन्टरनेट को किसने चालाते है उसके बारे में भी जान सकते है.

internet को किसने ख़रीदा है?

दोस्तों आप अगर internet को सरल तरीके से समझना चाहते है तोह जैसे आप आभी इस पोस्ट को पढ़ रहे है और यह पोस्ट के जोह डाटा इ वोह कही ना कही google के कोई server में मजूद है जिसके मदत से आप आपने mobile/laptop में यह पोस्ट को पढने में  सक्षम हुआ है.तोह  गूगल के वोह server से चलकर आपके पास यह पोस्ट आरहा है ऐसे में वोह डाटा आपके phone में या आपके computer में चलके आराहा है.तोह इसका मतलब यह एक physical connection होना चाहिए उस server के और आपके फ़ोन के बिच में.अब आप सोचकर देखिये की वोह server उदाहरण जैसे us में कोई california  में है अब california तक तोह airtel का range है नहीं और आप एयरटेल ग्राहक है या फिर आप एक vodafone के ग्राहक है,एयरटेल हो सकता है सिर्फ हामारे भारत   में हो या हामारे zone में operate करता है और अगर आपको third party isp का इस्तेमाल करते है   जैसे multinet जोह की उदयपुर राजस्थान का है और local isp है या फिर और एक example देते है आपको जैसे exptra यह डेल्ही area का local isp है तोह ऐसे में कुछ local isp का data california के server तक ले जा नहीं सकता है लेकिन फिर भी आपसे कुछ जादा पैसा लेकर आपको डाटा दे देते है जिसकी वजह से आप दुनिया में कोई भी और किसी भी jaiga पे internet पार websites को access कर सकते है.

internet को किस तरह से mantatin किया जाता है?

जोह isp है इसमें उन्होंने अलग अलग category में devide किया गया है जैसे TR 1,2 ,3 इससे अलग अलग devide किया गया है.वोह ऐसे में सबसे उपर के जोह isp companies होते है जिन्होंने खुदकी समुन्दर में केबल बिछाए हुए है खुदके पैसे से अलग अलग investemnet से यह project बानाया है.तोह उन्हें हाम कहेंगे trl isp या फिर हाम नाम ले सकते है level 3 का,यहाँ पार नाम ले सकते है verzion का…. तोह जोह कंपनी जैसे example north america से लेकर europe तक और दुबई से लेकर बॉम्बे तक और बॉम्बे से लेकर singapore तक वोह जोह cabels बिछा हुआ है और जोह companies है यह वोह companies थी जिन्होंने इस्स्पार बहुत सारे पैसा लागाया है और जोड़ दिया है एक conntenity को दुसरे continety से सिर्फ यह केबल के मदत से.तोह ऐसे में हाम बात करते है no.2 isp का यह ऐसे में वोह isp companies है जिनका एक नेशनल scale पार काफी बड़ा network बन चूका है जैसे bsnl,airtel,idea भारत के लिए यह सब companies  है.और एक बहुत ही बड़ा कंपनी है reliance जिन्होंने पूरा देश में उनका network बाना राखा है.

उसके बाद निचे आता है tr3 isp जोह tr2 isp के निचे है और बाद में आपको service provide करते है.example के तोर पार multinet हो गया,spectranet हो गया इस तरह जोह local companies आपको देखने मिलता है.अब इसमें होता यह है जैसे एयरटेल है और बात करता हु डेल्ही का डेल्ही में एयरटेल का नेटवर्क काफी आछा है और राजस्थान में vodafone का network काफी आछा है और airtel यहापर नहीं है और vodafone वोहापार नहीं है और ऐसे में अगर एयरटेल और vodafone ने join करले अपोस में की यह काम करो जोह डेल्ही में तुम्हारा network है वोह में handel कर लूँगा और जोह तुम्हारे राजस्थान का नेटवर्क है वोह तुम handel कर लेना अगर वोह ऐसे जोड़ जाए अपोस में तोह इसका मतलब क्या होगा की airtel की जोह reach है वोह डेल्ही में हो जायेगी और जोह राजस्थान में है वोह राजस्थान में भी cover हो जायेगा.और vodafone की जोह reach है वोह राजस्थान में भी हो जायेगा और डेल्ही में भी हो गया.तोह ऐसे में जोह छोटी छोटी isp है वोह मिल जाता है तोह कही पार तोह data shareing के लिए agree कर लेते है और size भी same ही होता है user को भी proper isp मिल जाता है.

internet को किस तरह से mantatin किया जाता है?

internet के मालिक के बारे में कैसे जाने ?

जैसे मैंने उपर बाताये है की एक दुसरे कंपनी के नेटवर्क को जुड़ते है इससे pairing कहता है.और अगर ऐसा नहीं होता है तोह फिर उहाइ tata उनको पैसा देना पड़ता है जैसे bombay में जोह है tata comunaction जोह देखता है सारा काम ऐसे में airtel पैसा देगा tata comunaction को की monthley आपसे इतने gb का transaction करूँगा या फिर मेरेको कुछ ऑफर चाहिए इतने स्पीड की और उसके बाद में airtel अलग अलग distibutiors करता है network को.और जोह नंबर  1tr isp है जैसे ntt या फिर level  3 जैसा तोह वोह companies जिन्होंने समुन्दर के निचे केबल बिछाया था वोह किसीको कोई भी पैसा नहीं देता है.तोह  अब आप समझ गए होंगे की internet का मालिक कोण है ?basicaly की सबसे उपर जोह companies होता है जिन्होंने cabels को समुन्दर के निचे बिछाया था वोही सबसे उपर है तोह वोह किसीको कमीशन में देते है उसके निचे जोह companies होते है जिन्होंने नेशनल level पार या आपने network को काफी फैला राखा है और काफी बड़ा network बना राखा है वोह पैसा देता है tn1 वालो को और उसके निचे जोह companies होते है वोह normal आपना सहर में मिल जाता है और वोह पैसा देते है उसके उपर के लेवल के companies को.और ऐसे ही डाटा को जोह transaction है वोह चलते रहता है.और इसमें देखने के बात यह है की कोन आपको कितना benifits दे राहां है और कोन आपको जादा speed में internet दे राहा है.

इन्टरनेट के स्पीड को किस तरह से बाटा जाता है?

मान लीजिये आपके पास 100 mbps का प्लान है जिसका matlab आपको 100mbps की स्पीड मिल राहा है और अगर मेरे पास 1ombps का प्लान है तोह आपको 10mbps की स्पीड मिल रहा है ऐसे में अगर में एयरटेल की की 10mbps के लिए 500 रुपया देता हु और आप 100mbps के लिए 2000 रुपया दे रहे हो ऐसे में airtel आपको privaty पार राखना होगा वोह आपके लिए shortage रूट देखेगा जिससे आपको 100mbps की स्पीड मिल जाये.और में जैसे की कम पैसा देता हु क्यों की मुझे मिलता है 10mbps की स्पीड तोह ऐसे में airtel मुझे privaty पार नहीं राखेगा मुझे वोह अलग अलग जोह सस्ते रूट पड़ता है वोह वोहा से divert करते हुए website तक पहुचता है.जिससे मेरेको 10mbps का स्पीड मिलेगा और airtel को जादा पैसा खर्चा भी नहीं करना पड़ा.

दोस्तों यह था internet से जुड़े हुए आपके कुछ सावालो का जवाब.उम्मीद करता हु इन्टरनेट से जुड़े हुए येह्सारे जानकारी आपको पसंद आएगा.इस पोस्ट से जुड़े आपके मन में और कोई सावल रह जाता है तोह वोह आप निचे कमेंट box का उपोयोग करके मेरे साथ पूछ सकते है.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.