हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज में आपलोगों को एक ऐसे काहानी शेयर करने जा राहा हु जोह की सबके जीबन में कभी ना कभी यह आता ही है.और यह एक ऐसा interesting काहानी जोह की में जब भी कोई काम करता हु तोह मुझे यह याद आजाता है.इसीलिए में आपलोगों के साथ एक छोटा सा काहानी के माध्यम से बतानेवाला हु जिससे आपको समझ आये.

क्या आप काम दिखाने के लिए करते है या खुदके लिए करते है?

दोस्तों यह काहानी एक गुरु और चेले की है.जोह चेला है वोह उनके गुरु के पास जाता है और उनसे कहता है की गुरूजी मुझे बताएं की जीबन में सफ़लता कैसे मिलेगा?तोह गुरु उससे समुन्दर के पास बिच में ले जाते है और उससमय चेला थोडा confusion हो जाता है की गुरूजी ने हामे यहाँ क्यों लेकर आया है और वोह उससे देखता है और चेलेका सर पकड़ लेता है और उससे पुरे के पुरे समुन्दर के पानी के अंदर दाल देता है और कुछ miniute के लिए वोह उससे वोही पे पकड़ के राखते है.फिर 1/2 miniute के बाद पानी से उसका सर निकाल देता है और थोडा देर साँस लेने देता है फिर से उसका सर पानी के अंदर दाल देता है.ऐसे 2/3 बार करते है आपने  चेले के साथ.तोह जब चेला एकबार साँस लेना शुरू कर देता है और उनके गुरु से पूछते है की गुरूजी में आपसे यह पूछा था की जीबन में सफलता कैसे मिलता है?लेकिन आप मुझे मारना क्यों चाहते है?

तब गुरु उससे जवाब देता है की जब तुम्हारा सर पानी के अंदर था तब तुम क्या सोच रहे थे ?चेले कहता है में कुछ भी नहीं सोच राहा था,मुझे सिर्फ सांस लेना था मेरा दिमाग में सिर्फ एक ही बात चल राहा था की में कैसे सास लू?तोह गुरु तब उसको जवाब देता है की जब तुम्हारे सफल होने का एम्बिशन उसके साथ मैच करेगा की तुम्हारी साँस लेने की खमता कितना है ?तब तुम एक सफल बेकती बन पायोगे.और चेले को आपना जवाब मिल जाता है.

क्या आप दुसरे को दिखवाने के लिए कोई भी काम करते है?

तोह दोस्तों यह जोह काहानी था बहुत ही छोटा था लेकिन दिल को छू जाने जैसा है.और जब भी में इसके बारे में सोचता हु या इससे पढता हु में आपने आपसे पूछता हु की अगर में कहता हु मेरा एक गोल है मेरा एक एम्बिशन है.और जब में अपने आपको relive करता हु इस काहानी के साथ तब मेरा 10 में से 8 गोल येही से cancel हो जाते है की मेरा एम्बिशन इस लेवल से मैच करता है की नहीं.तोह दोस्तों इस काहानी हामे बहुत ही जादा introspect कराते है और हामे clearity देता है की जब हम कहते है हामारे एक गोल एम्बिशन है क्या वोह सच में हामारा गोल या एम्बिशन है?या फिर हाम आपने आपसे झूट कह रहे है या फिर हम किसी और से झूट कह रहे है या फिर सिर्फ यह दिखाने के लिए की यह मेरा गोल है.

तोह दोस्तों जैसे में काहा ऐसे आओ आपने आपसे पूछिये की इस काहानी को आपने गोल और एम्बिशन से रिलेट करिए और देखिये की क्या clearity है और क्या जवाब मिलता है.और जब हम किसी highly सफल इंसान की काहानी पढ़ते है हाम हामेशा उनके बारे में कुछ कॉमन अंडरलाइन फैक्स पढ़ते है की उनकी perstiste लेवल उनकी एम्बिशन में कोई dobut या कोई lackoff clearity नहीं था की वोह कौशिश करेगा की नहीं.दोस्तों यह कॉमन अंडरलाइन फैक्स जादातर सब काहानी में पड़ेंगे.और यह सायेद इसीलिए है की उनकी एम्बिशन लेवल साँस लेने तक एम्बिशन लेवल तक था.या ऑलमोस्ट उल्टा उतना ही था,उनमे कोई dobut नहीं था की वोह पूरी कोशिस करेंगे.

तोह दोस्तों इस काहानी की आप अपने जिबन में रेलिफे करिए और देखिये क्या जवाब मिलता है.और आपको यह काहानी कैसा लागा जरुर मुझे कमेंट box में कमेंट करके बाताये ताकि आगे में ऐसे और अच्छे से अच्छे काहानिया आपके लिए लिख सेकु.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.