WARREN BUFFETT QUOTES WARREN BUFFETT KI KAHANI

0

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों आज में एक बहुत ही सफल बेकती के जीबन काहानी के बारे में इस पोस्ट में बातानेवाला हु.और ऐसे आपलोग में से बहुत सारे लोग इनके नाम सुने भी होंगे जी हां उसके नाम है WARREN BUFFETT जोह की stock market में एक बहुत बड़ा सफलता अर्जन करने में सखम राहा है.और इनके काहानी से हामे बहुत कुछ सिखने को मिलेगा इसके लिए ख़ास करके आपलोगों के साथ इनके जीबन काहानी शेयर करने जा राहा हु.

WARREN BUFFETT की जीबन काहानी हिंदी में 

स्वामी सत्यदेव एक बेरोजगार बेकती था.उनके पास जतार्थ्य पैसे ना होने के कारन उन्होंने आमेरिका जाने के लिए तैयार था.और वोह अमेरिका जाने के लिए निकल पढ़े और एक जाहाज से पहुचे.अपना खुदका खर्चा चालाने के लिए उन्होंने जाहाज में बर्तन माजने का काम करली और वोहा से ओमान पहुच गए.एकदिन सत्यदेव जी सुभ के सेर करने के लिए निकले .तभी आखबार बेचनेवाला एक छोटा सा लड़का उनके पास आकर बोला सर क्या आप आजका आखबार खरीदना चाहते है?                                                                                                                          सत्यदेव जी ने माना कर दिया तोह लड़के ने फिर काहा सर इसमें बहुत आछी आछी खबरे है और मुल्ल्य भी कम है.

सत्यदेव जी ने फिर मुंडी हिलाकर माना कर दिया.फिर उस लड़के ने बोला आखबार ले लीजिये वरना आप एकदिन की जानकारी के मामले में काफी पीछे रह जायेंगे.सत्यदेव जी को लड़के की बाते अच्छी लागा.उन्होंने सोचा सायेद किसी मज़बूरी में यह लड़का अख़बार बेच राहा है,और यह सोचते हुए 1 आखबार उनसे खरीद लिया.

फिर सत्यदेव जी ने उस लड़के से पूछा क्या आपके माता पिता बहुत गरीब है जिसके वजह से तुम इतने छोटी से उम्रो  में अख़बार बेच रहे हो? सत्यदेव जी का यह बाते सुनकर लड़का नाराज हो जाता है और बोलते है की मेरा माता पिता गरीब नहीं है.मेरे पिता नगर पालिका में है.सत्यदेव जी ने फिर पूछा फिट क्यों तुम इस उम्रो में अख़बार बेच रहे हो?लड़का ने बोला की में अभी से में आपनी माता पिता की बोझ नहीं बनना चाहता हु.में चाहता हु की अभिसे काम करने का आदत पढ जाए.ताकि भबिस्यत में आपने पैरो पार खड़ा होने में कोई दिक्कते ना आये.और आपको बाता दू की वोह जोह छोटा सा लड़का का बात कर राहा हु वोही WARREN BUFFETT था.

तोह दोस्तों इस काहानी से हामे यह सिख मिलता है की आपने पैरो पे खाडा होने के लिए कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है. क्यों की जब जुते का काम करके कोई BATA र लोहे का काम करके कोई TATA बन सकता है फिर आप क्यों खली बैठे है,आज से ही आपने लक्ष्य के तरफ बढे.

WARREN BUFFETT के कुछ बाते 

”बाजार के उतर चड़ाव को आपना दोस्त समझे

दुसरे की मुर्खोता से लाभ उठाये

उसका हिस्सा मत बनिए”

 

”अगर आज कोई पेड़ की छाब में बैठा है

तोह इस वजह से किसी ने

बहुत समय पहले यह पेड़ लागाया था”

 

दोस्तों इस पोस्ट में मैंने आपको WARREN BUFFETT के जीबन  काहानी के बारे में बाताये है और उनके कुछ बानी के बारे में भी बाताये है.तोह आपको इस काहानी कैसा लगा और इस काहानी से आपको क्या सिख मिला वोह आप मेरे साथ जरुर शेयर करे कमेंट box के माध्यम से.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.