किसके वजह से गूगल को success मिला था और कैसे मिला था ?

0

हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिर से आप सभीको internet sikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों हम  सभीने आजकाल इन्टरनेट का इस्तेमाल करते है और आजके दिन में जोह सबसे बड़ा सर्च इंजन    है वोह गूगल का ही है .लेकिन दोस्तों क्या आप जानते है की गूगल से पहले ही एक सर्च इंजन    आया   था जिसका नाम था yahoo.जोह की स्तान्फोर्ड यूनिवर्सिटी के  2 छात्रो debid फेलो और जेरी जोंग मिलकर guide to world web पार आपना लिंक शेयर किया था  और तभी yahoo को लांच किया गया था .और बहुत ही तेजी से लाखो लोगो ने  yahooको इस्तेमाल करने लाग गया और इस वजह से उस्स्वक्त yahaoo  दुनिया एक सबसे बड़ा सर्च इंजन बनने मे      सक्षम रहा था .लेकिन आजके दिन मे    बहुत ही कम लोग ही होंगे जोह की yahoo सर्च इंजन को इस्तेमाल करते है .इसका  आसली हकीकत यह था की yahoo sirf 4.6 अरब डॉलर में बिक गया था .और yahoo के बेचने के पिच्छे क्या क्या क्या काहानी है और yahoo ने क्या क्या ऐसा   गलती कर    बैठा था जिसके वजह से इतने कम    मुल्य में कंपनी को बेचना पढ़ा था .और इसका सीधा फ़ायदा गूगल   को ही मिला था जिसके वजह से गूगल आज दुनिया का नंबर 1 सर्च इंजन बन पाए .चलिए फिर जान लेते है yahoo के falure history और google के success स्टोरी के बारे में .

किसके वजह से गूगल को success मिला था और कैसे मिला था ?

yahoo ने ऐसा क्या गलती किया था  जिसके वजह से yahoo को आज भी भुगतना पढ़ रहा है ?

दोस्तों हम सभीने यह तोह मानते ही है की कोई भी  चलती busniess बिना कुच्छ कारन में नहीं डूब सकता है .उसके पीछे जरुर कुछ ना कुछ कारन होगा जिसके वजह से yahoo का यह हालत है .चलिए फिर देख लेते है yahoo के कुछ गलतिया जिससे देखकर हामे भी कुछ सिखने को मिल सके .

  • दोस्तों आपको जानकार हैरान होगा की यह जोह आप गूगल के सर्च इंजन को देख रहे हो ना 1998 में येही गूगल को yahoo ने खरीदने के प्लान बानाया था और गूगल उसके बदले में yahoo से 10 लाख डोलर का मांग किया था लेकिन उस समय yahoo को लागा की कुछ जादा ही मुल्ल्य चुकाना पढ़ रहा है और इस वजह से yahoo ने गूगल को खरीदने में माना कर दिया था .
  • फिर 2002 में जब गूगल का मार्किट होने लागा तब yahoo ने सोचा की अब गूगल को खरीदना चाहिए .और yahoo ने गूगल को 3 अरब डॉलर देकर खरीदने का प्रस्ताब दिया था .लेकिन गूगल उस समय बोला था की 5 अरब डॉलर दोगे तभी यह डील होगा नहीं तोह डील cancel.और फिर उस वक्त yahoo ने गूगल को खरीद नहीं पाया .
  • फिर 2008 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने yahoo को 45 अरब डॉलर देकर खरीदना चाहता था लेकिन उस समय भी yahoo ने माइक्रोसॉफ्ट का प्रस्ताब नहीं माना था .
  • और अब आपको सुनकर हैरान होगा की अभी 2016 में oath inc. नाम के एक वेरिज़ोन कंपनी ने सिर्फ 4.6 अरब डोलर देकर yahoo को खरीद लिया है .

यह तोह में आपको yahoo के गलती के कुछ कारन बाताया है जिसके वजह से yahoo को यह दुर्दिन का सामना करना पड़ा है .लेकिन yahoo के कुच्छ ऐसा कारन भी है जिसके वजह से वोह खुद आपने कंपनी को डूबा दिया है .तोह चलिए देख लेते है की yahoo ने ऐसा और क्या क्या किया था जिसके वजह से yahoo को आज भी भुगतना पढ़ रहा है .

 

yahoo के पतन के कुछ कारन

  • दोस्तों जब भी हम कोई भी busniess या कंपनी चालाते है तोह हामे उसके उपर फोकस राखना बहुत जरुरी होता है कंपनी को सही तरह से चालाने के लिए .लेकिन yahoo के पास फोकस का कमी हमेशा रहा है .और इस वजह से  ही गूगल ने इसका पूरा फ़ायदा उठाया.और yahoo ने कभी सुधार करने का कौशिश ही नहीं किया है .जिसके चलते yahoo के busniess धीरे धीरे मार्किट में निचे की तरह गिरते ही गया है .
  • yahoo के सबसे बड़ा समस्या सोडे में हुआ था .उसने कुच्छ सौदे में सफ़ल राहा है ,और बहुत सारे सौदे में बिफल भी रहा है .yahoo ने गूगल को निचे लाने के लिए मायर ने 5   साल के लिए mozila ब्राउज़र को पैसा देकर उसका दाम   महंगा  कर दिया था जिस्स्से गूगल ने उससे खरीद ना सके  .और इस वजह से लगभग हर साल के लिए 2500cr पार mozila का default सर्च इंजन बन गया.
  • दोस्तों हाम सभीने जानते है की हामारे सफलता हामारे फैसला के उपर ही निर्भर होता है हम जब सही फैसला लेते है तभी हामे सफलता के सिखर तक जाना मुमकिन हो पाता है .आप देखिये yahoo के पास एक समय ऐसा था जब की 10 लाख डॉलर में गूगल को खरीदने का but उस समय yahoo ने उससे नहीं ख़रीदा .फिर उसके बाद yahoo ने facebook को भी खरीदने का बहुत कोशिस किया था लेकिन असफल रहा है .और उसने ebay को खरीदने का भी प्लान् किया था लेकिन yahoo के खुद के अहंकार के वजह से यह सौदे भी सफल नहीं रहा है .और आज आपको यह बात सुनकर हैरान होगा  की जिन जिन कंपनी को yahoo ने खरीदना चाहता था और वोही सब कंपनी ने  आज जब मन चाहे yahoo को खरीद ने का खमता राखते है.

तोह दोस्तों यह था yahoo के कुछ गलती के कारन .और yahoo के इस गलती के वजह से ही गूगल आज दुनिया का  सबसे बड़ा सर्च इंजन बन पाया है .और हामे yahoo के इस स्टोरी से यह सिख मिलता है की

”सही समय सही फैसला ना ले पाना

और फोकस के उपर ध्यान ना देना ही

आपना असफलता का सबसे बड़ा कारन बन  सकता है ”

तोह दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको यह जानकारी पसंद आया होगा और इस जानकारी से हामे जरुर कुछ ना कुछ सिख मिलता है .और इस जानकारी से जुड़े हुए आपके मन में कोई भी सवाल है तोह आप जरुर मुझे कमेंट बॉक्स में शेयर करे .और इस स्टोरी को आपने दोस्तों के साथ भी शेयर करना ना भूले .और ऐसे ही हर दिन एक नए जानकारी आपके mail box में पाने के लिए internet sikho को subscribe करना ना भूले .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here