Mahatma Gandhi जयंती क्यों मानाते है?

1
Mahatma Gandhi जयंती क्यों मानाते है?
source by google

lekinहेल्लो दोस्तों आज एकबार फ्री से आप सभीको internet sikho में  बहुत बहुत स्वागत है. दोस्तों आज 2 अक्टूबर का महिना  है ,और इस दिन   में  Mahatma Gandhi जी  का जनम हुआ था और आप सभी ने उन्हें जानते भी   होंगे की क्यों हाम इस दिन को सरणियो बानाने के लिए इस दिन का पालन करते है .और आज में इसी पोस्ट में Mahatma Gandhi जयंती से जुड़े हुए कुछ बाते बाताने जा राहा हु.उसके लिए निचे दिया हुआ पूरा पोस्ट को पढ़े.

Mahatma Gandhi जी से जुड़े हुए कुछ बाते

दोस्तों आज हाम बात करेंगे 2 oct के दिन 1869 में mahatma gandhi जी का जनम हुआ था.सत्य और अहिंसा के पुजारी Mahatma Gandhi जी का नाम इतिहास के पन्ने में सदा के लिए अभी भी अमर है.Mahatma Gandhi जी सिर्फ देश में ही नहीं वल्कि बिदेशो में काफी प्रस्तुर थे .और आज में आपको बाताऊंगा Mahatma Gandhi से जुड़े कुछ ऐसे ही रोचक तत्थ्य.

Mahatma Gandhi जी से जुड़े कुछ बाते.

Mahatma Gandhi  जी को  Mahatma कि उपाधि ravindra nath tagor ने दिया था.और ravindra nath tagor को गुरुदेब कि उपाधि Mahatma Gandhi ने दिया था.साल 1930 मे  उनहे आमेरिका के time मेगजिन मे man of the year का पुरसकार भि दिया था.एकबारgandhi जि के पास ticket होने के बाद भि ticket collector ने उनहे जालि केहकर train से उतार दिया था.येह उनक अनगरेज के साथ सबसे पेहला और kadba अनुभब राहा .Mahatma Gandhi  को rashtra पिता कि उपाधि सुभाश chandra बोसे ने दिया था.Mahatma Gandhi  जि का पुरा नाम मोहन दास करम chand gandhi था ,उनहे आपना तसविर खिचवाना बिलकुल हि पसंद नहि था लेकिन आजादि के ladai मे वोह एकेले ऐसे वकत थे जिसमे उनके photo सबसे जादा खिचि गया है.Mahatma Gandhi  कभि भि आपना जिबन मे आमेरिका नहि गया है.Mahatma Gandhi  आपने जिबन मे कभि भि अरोplan मे नहि baithe है .Mahatma Gandhi जि ने साधिनता आनदोलन मे आपना जिबन मे 6 साल 5 माहिने जैल मे रहे है. Mahatma Gandhi  जि सदेशि के बहुत kattar समरथक था लेकिन उनहे पेहला duck ticket swtirzeland  मे छापा गया था. satantrata दिबस के रात gaandhi जि नेहरु जि के भासन सुन ने के लिये मजुद नहि था. उसदिन gandhi जि उपोबास पार थे भारत के satantrata prapti के कुछ पसचत patrokaar gaandhi जि के पास आये और उनसे english मे बात करने लागे ,पार gandhi जि ने उन सभिको रोका और काहा है कि मेरा देश जब आजाद है तोह अब मे hindi मे बात karenge.gaandhi जि को उनके जिबन मे 5 बार नोबेल पुरसकार से नामानतरित किया गया है. लेकिन 1948 मे पुरसकार मिलने से पेहले हि उनका hattya हो गया ,पार उस समय नोबले comity ने उस साल किसिको भि पुरसकार नहि दिया.gandhi जि समय के बहुत पवन थे ,30 jan 1948 को जिसदिन gandhi जि कि hatya कर दि गयि है ,gandhi जि इस बात से परिशान थे कि वोह आपनि  prarthana सवर  के लिये 10 miniute देरि से जा रहे थे.moong fali खाने के बाद गोर से उनहे 3 गोलिया मारि थि ,अनतिम समय मे gandhi जि के मुह से निकला राम,gandhi जि के sobhyatra को आजाद भारत कि सबसे badhi sobhyatra काहा जाता है.करिब 10 लाख लोग उसके साथ चल रहे थे और करिब 15 लाख लोग रासते मे khade थे जिस बाहन  ने 1948 मे Mahatma Gandhi  को अनतिम sanskaar के लिये ले गया था ,वोहि बाहन 1997 मे mother तेरेसा के अनतिम sanskar के लिये भि इसतेमाल किया गया था.

gandhi जि ने जब आपनि kanoon कि padhai खतम करके england मे वकाला शुरु कि थि तब वोह पुरि तरह से asafal साबित  हुये थे.यहातक के उनके पेहले केस मे उनके tange जिस तरह कापने लागे थे तब वो ह पुरि भयस नहि कर पाये थे और वोह केस हार गये.लेकिन dakshin aafrika मे gandhi जि एक safal वकिल बने थे ,और उनकि आम दानिक dakshin aafrika मे 15000 $ सालाना हो गये थे. fir आप जारा सोचिये कि 99% भारतियो के saalaana आये आज भि उससे कम है.Mahatma Gandhi  के आजादी के लड़ाई में एक बहुत बड़ा योगदान राहा है ,यह योगदान हामारे दिल और दिमाग पार हामेशा रहेगा ,और उनका यह कुर्बानी हामेशा रहेगा.

Mahatma Gandhi जयंती क्यों मानाते है?
source by google

 

Mahatma Gandhi  के कुछ बाते

“आपके बिचार आपके जीबन का निर्माण करते है,                                                                                   जाहा संग्रह किये गए महान बिचारोको के हाजारो कथन आपके                                                            जीबन में एक सकारात्मक बदलाब ला सकता है”

”ऐसे जिओ जैसे की तुम काल मरने वाले हो,                                                                                          ऐसे सीखो की तुम हामेशा के लिये जीने वाले हो” 

”मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पार आधारित है,                                                                                       सत्य मेरा भगबान है,अहिंसा उससे पाने का साधना ”

दोस्तों यह था Mahatma Gandhi  जयंती और Mahatma Gandhi से जुड़े हुए कुछ रोचक जानकारी,मुझे उम्मीद है की आपको यह जानकारी पसंद आएगा.और इस तरह के जानकारी आपके मेल बॉक्स में पाने के लिए internet sikho को subscribe करना ना भूले.

SHARE
Previous articleDussehra क्यों मानाया जाता है?
Next articleन्यू Married Life में सुखी रहने का कुछ टिप्स

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम मिथुन है ,और में वेस्ट बंगाल से हु ,और जब के लिए फिलहाल मुंबई में रहता हु .और यह वेबसाइट को मैंने 2016 में बानाया हु.और मुझे इस वेबसाइट का बानाने का मकसद यह है की लोगो को इन्टरनेट के माध्यम से हर एक तरह के जानकारी देकर उनका मदत कर सके ,और इसीलिए में इस वेबसाइट का नाम internetsikho.com राखा है.और इस साईट में आपको latest internet से जुड़े हुए tips ,tricks ,social tricks ,indian history ,share market basic tips ,technical analysis ,love tips.motivation story,love story,love tips, mumbai darshan,lifestyle,blogging से जुड़े हुए हर तरह के जानकारी हिंदी में दिया जाता है.और मुझे उम्मीद है की आपको इस साईट में दिए हुए जानकारी से हरदिन कुछ ना कुछ नया सिखने और जानने को मिलेगा .और कृपया करके आपके दोस्तों के साथ भी इस साईट के बारे में बाताये और ऐसे हामारे साथ बने रहे ,और हरदिन कुछ नया जानते रहिये और सीखते रहिये क्यों की सिखने का नाम ज़िन्दगी.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here