हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिरसे आप सभीको internetsikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों क्रिकेट के दुनिया में अगर ऐसा कोई batsman था जिससे क्रिकेट का भगबान मानता था वोह एक ही है sachin tendulkar जिससे हर गली के बच्चे को भी पाता है.आज में इस पोस्ट में इस भगबान के जीबनकाहानी के बारे में ही बात करनाला हु.और साथ में इनके क्रिकेट जगत के सफ़र के बारे में भी जानेंगे.

sachin tendulkar की जीबन काहानी हिंदी में 

sachin tendulkar को जादातर लोग क्रिकेट के भगबान के रूप से मानते है और इनके साथ खेले हुए लोग सब sir से पुकारते है.और जब स्टेडियम में इसका बल्ला चलता था तब हर तरफ से एक ही आवाज आता था सचिन सचिन आला रे.इनका जन्म 24 april 1973 में हुआ था.उनके पिता के नाम रमेश तेंदुलकर था और उसके पिता आपनी पसंदिता म्यूजिक director  का नाम सचिन देव बर्मन था  तबसे इसका नाम सचिन राखा गया है.लेकिन इस छोटे सचिन के इरादे कुछ और ही था यह संगीत के दुनिया में नहीं खेल की दुनिया में आपना नाम अकरने वाला था.और तब कोन जानता था की एक छोटी सी उम्र यह cricket की दुनिया में एक धामाका कर देगा.sachin tendulkar के बड़े भाई अजित     तेंदुलकर ने उन्हें काफी परिस्थित किया.sachin tendulkar बचपन में ही घंटो cricket practic किया करता था.और इनके गुरू अर्चेकर 1 रुपया के सिक्का stamp के उपर राखते थे.और शर्त यह होता था की जोह भी बोलर sachin tendulkar को आउट कर पायेगा वोह इस 1 रुपया आपने साथ ले जायेगा.और sachin Notout राहा तोह वोह 1 रुपया वोह खुद ले जाएगा.और ऐसे  करते करते सचिन के पास 13 ऐसे सिक्के है जिससे सचिन सबसे बड़ा अवार्ड मानते है.

sachin tendulkar को क्रिकेट में आनेका शुरुवाती दोर

16 साल की उम्र में sachin tendulkar ने international cricket में join किया और पहले इन्तेहान में ही उनके     सामने पाकिस्तान की टीम सामने आया.पाकिस्तान के गेंदबाजों ने छोटे सचिन के लिए यह छोटी का जोर लागा दिया और इसी मैच में एक बाउंसर ऐसे आया वोह sachin tendulkar के नाख से जाकर नाख से खून बहने लाग गया था.पार आपनी दर्द की परवा किये बिना इस 16 साल की क्रिकेटर ने फिर भी खेलते गया हाल नहीं छोरा. ऐसा माना जाता है की जब शेर घायेल हो जाता है तब वोह और जादा भयंकर बन जाता है.कुछ ऐसा ही sachin tendulkar के साथ भी हुआ.पहले मैच में आया बाउंसर ने जरुर सचिन को चोट पहुचाया पार उसके बाद सचिन ने जोह धुलाई की वोह आज भी बड़े बड़े    गेंदबाज    के दिल में है.चाहे वोह cen 1 हो या  मुरलीधरन हो या फिर गएल मगरा हो इनसब  के पिटाई हुए काहानी sachin tendulkar के records में साफ़ दिखाई देता है.

sachin tendulkar को क्रिकेट दुनिया में कैसे सफलता मिला था?

100 centuery का रिकॉर्ड हो या फिर पहला ऐसा क्रिकेटर है जिसने ऐसा क्रिकेट में एक ही दिन में 200 रन बानाया था.sachin tendulkar के नाम पार करीबन हर एक रिकॉर्ड है.sachin tendulkar एक ऐसे पहली खिलाडी है जोह one day international क्रिकेट में 10000 runs   तक पंहुचा.उसके बाद 11,12 ,13 ,14 और यह runs को गिनती बाढते ही गया 18000 runs तक sachin tendulkar पहुच गया.एक वक्त ऐसा भी था बी एकेले सचिन खेलता था और बाकी सब प्लेयर लौट जाते थे सर्झाना के मैदान पार आज भी australian प्लेयर्स को अपनी धुलाई याद है.

और बहुत जल्द  सचिन vice captain बने vice captain से captain लेकिन उनकी captainship भरतीयो टीम को कोई ख़ास नाम नहीं दिया.इसी सीनियर प्लेयर में से मोहम्मद आजरुद्दीन ने यह बात कही थी की सचिन की captainship में हाम नहीं जीत सकते है.क्यों की छोटे के नसीब में जीत नहीं था.एक तरफ से सचिन रिकॉर्ड से रिकॉर्ड तोड़ रहे थे और दूसरी तरफ वोह आपना दिल भी संभाल राहा था.और उनके दिल पार कब्ज़ा किया dr अंजलि ने जिनसे sachin tendulkar ने 24 may 1995 में साधी कर लिया.

SACHIN TENDULKAR HISTORY
image source by google

 

sachin tendulkar के personal life की जानकारी 

सचिन और अंजलि के 2 बच्चे है बेटी सारा जिनका जन्म 12 oct 1997 में हुआ और बेटा अर्जुन जिसका जन्म 24 sep 1999 में हुआ.गौर करनेवाले बात यह है की अंजलि सचिन से उम्रो में 6 साल की बड़ी है.बिच बिच में सचिन के आलोचोको में यह भी काहा की सचिन को retire हो जाना चाहिए.जिस्पार अक्सर सचिन का बल्ला ही बोलता था पार जब प्रेशर जादा पढ़ जाता था तब सचिन खुद बहुत ही नम्रता के साथ इस बात का जवाब देते थे.

सचिन ने सबसे बड़ा ब्रांड सिर्फ GN dolls ही नहीं किया वल्कि सबसे बड़े tournment में भी जीते है जिसमे साल 2011 की worldcup के history सबसे उपर आता है.और यह जोह worldcup भारत में आया था वोह 28 साल के बाद आया था.यह सचिन का बचपन का सपना था की वोह भारतीयों टीम के लिए worldcup जीते और जब 2011 में जब worldcup जीता तब sachin tendulkar के आँखों  से आंसू का बाहार    बहने लागा था.और सचिन के साथ खुसी में पूरा देश  भी रोया.और जब छोटे छोटे बच्चे सचिन से पूछते है की हाम भी cricket खेलना चाहते    है और आपके जैसा बनना चाहते है हामे भी कुछ tips दीजिये.सचिन का जवाब कुछ इस अंदाज में रहता था की सपने देखो सपने सच जरुर होते है. इस तरह के बहुत सारे सावाल पुरे दुनिया के लोग पूछता है लकिन उनका जवाब सिर्फ एक ही रहता है जोह उपर आपको बाताया है.

तोह दोस्तों यह था the cricket of god sachin tendulkar की जीबन काहानी.उम्मीद है इनके बारे में जानकरी आपको पसंद आया होगा और साथ ही साथ कुछ सिखने को भी जरुर मिला होगा.इनके बारे में आपके पास और भी कोई जानकारी रहता है तोह आप हामारे साथ जरुर शेयर करे कमेंट box का उपोयोग करके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.