हेल्लो दोस्तों आज एकबार फिर से आप सभीको internet sikho में बहुत बहुत स्वागत है.दोस्तों ऐसे तोह हम आपने girlfriend को खूश राखने के लिए क्या ना करते है,और आपने दोस्तों के साथ भी खुश रहने के लिए बहुत कुछ करते है जैसे उसके जन्मदिन में उससे wish करते है  या फिर कोई पार्टी मानाते है,ऐसे और भी बहुत कुछ करते है.लेकिन क्या कभी आपने यह सोचा है की आपके माता पिता को कैसे खुश राखे?और आगर कभी गलती से सोच भी लेते है तोह आपके  अन्दर से एक शर्मिंदा भाब आता है और आप उस बात को भूल जाते है.लेकिन जिनलोगो के वजह से आप इस धरती को देख रहे है और उन्ही माता पिता को अगर आप खुश नहीं राख सकते है तोह आप इस दुनिया में और कर ही क्या सकते है?

क्यों की एक माता पिता ही होते है जोह हामे छोटे से बड़े करते है.और अगर हम उनलोगों के लिए आपने जीबन के पुरे समय उनके सेबा में लागा देते है,फिर भी हो सकता है की  हम उनके उधारी को चूका नहीं सकते है.और हमसब आपने माता पिता को ही आपने समय असमय में गुस्से में होकर कुछ ना कुछ गलत बाते बोल देते है,और उस बातो से सायेद उनलोगों के मन में कही ना कही दुःख पहुचता है,और चुपके चुपके रो भी पड़ते है आपके उस बातो के  वजह से. और सच कहे तोह उन्ही माता पिता ही सिर्फ आपके  ख़ुशी के बारे में सोचते है.तोह जोह माता पिता आप कैसे खुश रह सकते है उसके लिए सोचते है तोह आपको भी उनको कैसे खुश राखना है वोह भी सोचना चाहिए की नहीं?तोह आज मुझे इस पोस्ट में येही बाताने  का प्रयास है की आप आपने इस भागते हुए ज़िन्दगी में आपने माता पिता को कैसे खुश राख सकते है उसके कुछ बाते.

माता पिता को उनके prappy सम्मान देना चाहिए

इस दुनिया में सायेद ऐसा बहुत कम लोग ही होंगे जोह की आपने माता पिता से उल्टा सीधा बाते आभितक नहीं काहा है.बहुत बार हामने आपने माता पिता के मन में दुःख पहुचाया है,और उनके प्रप्प्य सम्मान हामने कभी नहीं दिया है.लेकिन जाहा हम काम करते है और आपने boss को जिस तरह से सम्मान देते है,उस तरह के सम्मान आपने माता पिता को कभी नहीं दिया होगा.लेकिन आपने माता पिता ही होते है सबसे सम्मानियो प्रप्प्यो.तोह हामारे उचित है की आपने माता पिता को सम्मान करना.

माता पिता के साथ हामेश धीर शर में बात करे  

आजके इस डिजिटल जगत में  तोह लोग आपने माता पिता को तोह आपना दोस्त के तरह देखते है,और वोह उनलोगों से तू तू करके बात करते है,और उनलोगों भाबना है की तू तू करके बात करने से वोह संपर्क बहुत नस्दिक का होता है इसीलिए इस तरह से बाते करना उन्हें पसंद है,और कभी कभी तोह गुस्से में गाली भी बक देते है इसी वजह से.जोह लोग पहले इस तरह के हारकत आपने माता पिता से किया था वोह जरुर आभी नहीं तोह कभी ना कभी आफसोस करेगा,और तब खुदको बहुत छोटा लागेगा.और तभी आप सोचंगे की आप कैसे आपने पुजोनियो माता पिता के साथ इस तरह के बाते किये थे जिसके वजह से उनके मन में दुःख हुआ.तोह इस तरह के हरकत आप आपने माता पिता से करते आरहे है तोह कृपया करके इस आदत को सुधारले.और कभी भी  आपके साथ कुछ भी हो जाए फिर भी आपके माता पिता को गाली मत देना.और उनलोगों से तू तू करके बाते भी ना करे.और उनलोगों के साथ हामेश धीर आवाज में ही बात करे.

आपने माता पिता के साथ हामेशा सच बाते बोलने का आदत राखे

हमसब जानते है की  कुछ कुछ समय इस दुनिया में सच बाते बोलना बहुत कठिन होता है,और सब लोग कभी सच बोल भी नहीं पाता है.और आपको इससे एक challange के रूप में लेना होगा की आप कभी भी आपने माता पिता से झूट नहीं बोलेंगे.आगर आप आपने माता पिता से ही सच बाते नहीं बोल सकते है तोह और किस्से सच बोलेंगे?इस धरती पे ऐसा और कोन करीबी  है जिससे आप सच बाता सकते है और वोह आपके माता पिता को नहीं?हो सकता है की जिनलोगो को आज आप आपने करीबी देख रहे है उनलोगों को आप कुछ दिन avoid करके चले,phone करना और किसी भी तरह के chaating/message करना भी बंध करदे,फिर हो सकता है की वोह लोग कुछ दिन आपके साथ बात करने के लिए कौशिश करंगे और धुन्देगे ,आगर नहीं मिलता है फिर एकदिन वोह आपके साथ छोर देंगे,और सायेद आपको  भूल भी जा सकता है.लेकिन आपके माता पिता कभी भी ऐसा नहीं करेगा.क्यों  की आपके माता पिता हर एक समय सिर्फ आपके बारे में ही सोचते रहता है.तोह उनलोगों के आपके उपर इस प्यार का कदर करना सीखे.उनके साथ हामेशा सच कहे.हो सकता है कभी आपने अंजाने में कोई गलत काम कर बैठते है,लेकिन फिर भी आपको आपके माता पिता के सामने सच ही कहना है.

बिशेष दिन सब याद राखने का कौशिश करे 

आजके दिन में हमसब अपने माता पिता के जन्म दिन को भूल जाते है,लेकिन आपने दोस्तों के जन्म दिन कभी नहीं भूलते है.ठीक उसी तरह आपके माता पिता के जन्म दिन और बिबाह बर्शिकी के दिन को याद राखे.और उस दिन ऐसा कुछ करे जोह उनलोग पुरे जनम उस दिन को याद करे,और इस खुसी में आप कोई तोफा भी दे सकते है.और आपके दिए हुए इस एकदिन के ख़ुशी हो सकता है आपके माता पिता के लिए यादगार.और इस बिषय से आप आपने दोस्तों के साथ मिलकर भी प्लान कर सकते है,फिर कुछ पैसा संचित राखकर एक अच्छा सा gift दे सकते है,इससे उनलोगों के मन में ख़ुशी का झरना बहते रहेगा.

माता पिता के आदेश पालन करके चलना सीखे

उनलोगों के बात को हामेश मानने का कौशिश करे.अगर कोई भी काम करने से आपको माना कर रहा है,और आपको लागता है की वोह गलत कर राहा है तोह उसवक्त आपको गुस्सा नहीं दिखाना है.शांत रहने का कोशिस करे,और पयार से उन्हें समझाने का कौशिश करे.हो सकता है की उनलोग समझ जाए,अगर फिर भी नहीं समझते है और आपको उस काम को करने में माना करता है तोह वोह काम अगर कोई गलत नहीं है तोह इस बिषय  में आप आपने माता पिता के बात को ही माने क्यों की उनलोगों ने कुछ अच्छा सोचकर ही आपको इस आदेश दिया है.

माता पिता को तारीफ करना सीखो 

बहुत सारे लोगो के पास यह एक शर्म की बात है.लेकिन हमलोगों को आपने माता पिता के कोई काम के लिए तारीफ करने  वक्त  शर्माना नहीं चाहिए.और आपने शर्म को दूर करके तारीफ़ करनेका कौशिश करे.चाहे वोह कुछ भी काम के लिए हो सकता है जैसे की मान लीजिये आपके माम्मी ने आज जोह खाना बानाया था वोह बहुत टेस्टी था इस तरह के आप तारीफ कर सकते है.या फिर मान लीजिये की आपके पाप्पा ने उनके busniess में आछा प्रोजेक्ट मिलता है जिससे busniess में बहुत मुनाफ़ा होता है,तभी आपके पाप्पा के हार्डवर्क  के प्रसंसा करे.या फिर आपके माता पिता को कोनसा कपडे में अच्छा लागता है उसके उपर भी उन्हें तारीफ कर सकते है,और आपके येहसब तारीफ के बाते उनके लिए जीबन भर में खुश रहने के लिए काफी है.

अंजाने लोगो के सामने ऐसा कुछ काम ना करे जिससे आपके माता पिता को शर्म आये 

आपने ही माता पिता के बातो में  लोगो के सामने कोई भी त्रुटी निकालके उन्हें शर्मिंदा करना बहुत ही गलत बात है.जैसे मान लीजिये की आप exam में आछे रिजल्ट्स नहीं कर पाए है,और इसीलिए आपके माता पिता आपके teachers के सामने ही चिल्लाने और गुस्सा करने लागता है.और आप उस समय  अगर गलती से बोल देते है की पाप्पा आप भी इस समय फ़ैल किया था.यह सिर्फ एक उदाहरन था ,ऐसे ना जाने हाम कितने बार ही आपने माता पिता को शर्मिंदा कर देते है.तोह इस तरह के हरकते आपको बिलकुल भी नहीं करना है.और उनलोगों के साथ कभी कीधार भी जाते है तोह जथाजथ आपना भद्रता बजाई राखे,और जोह काम आप करने से आपके माता पिता को शर्मिंदा होना पढ़े ऐसा कोई काम ना करे.

उन्हें नए नए चीजो के बारे समझाए

यह लाइन को देखकर आप थोडा सोच में पढ़ गए होंगे की यह में क्या बोलने जा राहा हु की आपने माता पिता को क्या समझायेंगे.लेकिन इससे ही आपके माता पिता को जादा ख़ुशी कर सकते है.आप जब छोटे थे तब जैसे आपके माता पिता आपको बोलने सिखाया,पढने सिखाया,और भी बहुत कुछ है ज्सिके मुल्ल्य आप कभीं उन्हें दे नहीं सकते है.लेकिन आप उन्हें ऐसा कुछ सिखा सकते है जोह आप आछा से समझते है और उन्हें भी इस बारे में समझा सकते है तोह उनलोग भी खुश होंगे.हो सकता है आपके माता पिता नहीं जानता है की facebook क्या है,तोह आप कभी उनके पास में बैठकर समझाए facebook के बारे में,और उन्हें संखेप में बाताये की इससे क्या क्या होता है.और फिर देखना उन्हें में मजा आएगा इस सब के बारे में जानकर.या फिर आप आपके mobile के features के बारे में भी समझा सकते है,जैसे कैसे mobile में मेसेज भेजते है,कैसे आपके फ़ोन से selfie खीच सकते है इस तरह के जानकरी आप आपने माता पिता के साथ शेयर कर सकते है.जिससे उन्हें भी ख़ुशी मिलेगा जोह चीजो के बारे में उन्हें नहीं पाता था वोह आपके वजह से जानने को मिला है.

आपने माता पिता के साथ समय बिताए

इस भाग दोड़ जिंदगी में हाजारो कामो के बाद भी आपके माता के साथ कुछ समय जरुर बिताए.उनलोगों के मन में कभी एकेलापन नहीं आना चाहिए.उनके साथ खुलकर बात करने का कौशिश करे.उनलोगों के साथ आप के हर के काम के बारे में बाते करे.बहुत सारे लोगो को लागता है की उनको माता पिता को इस दुनिया के बारे में कुछ पाता ही नहीं है,लेकिन आप तभी आपके माता पिता के बारे में ऐसे सोचते हैजब आप बहुत कुछ सिख लेते है इसीलिए आप उन्हें इस नजर से देखते है की उन्हें कोई जानकारी नहीं है इस बिषय में.लेकिन आपको बाता दू की जब आपके भी कोई baachhe होंगे तब उनलोग भी आपको ऐसे ही समझेगा जोह आज आप आपके माता पिता के बारे में सोच रहे है.तोह हो सकते है उनलोगों ने आजके ज़माने के साथ चलने के लिए सठिक ज्ञान नहीं है,और आप बहुत कुछ जान लेते है और आपके सामने उनलोगों को एक अनपढ़ बय्क्ति लागता है क्यों की उन्हें जादा जानकारी नहीं है.लेकिन ऐसे भी कुछ बिषय होंगे जिसके बारे में आपको थोडा बहुत भी जानकारी नहीं है  और आपके माता पिता को उसके बारे में बहुत आछा से समझ सकते है.तोह हामेशा कोई भी बड़ा काम करने का सिधांत लेने से पहले आपके माता पिता के मतामत जरुर ले क्यों की आपके माता पिता भी अच्छा से उस बिषय में समझ सकता है.

 

ऐसा कर्म करे जिससे धर्म हो 

सबके माता पिता येही चाहता है की उनके लड़के लड़की धार्मिक हो.दैनंदिन काज के साथ साथ आप अगर धर्म को भी मान के चलते है इससे आपके माता पिता को बहुत गर्व होता है.अब जब धर्म की बात कर रहे तोह आप ऐसा भी कर सकते है की हरदिन सोने से पहले कम से कम भगबान के पास प्रार्थना करे,इससे आपके मन भी हालका रहेगा,सास्थ्य भी अच्छा रहेगा.

माता पिता के साथ कही घुमने जाए 

जैसे हमें जब भी फ्री समय मिलता है हम  जादा से जादा समय आपने दोस्तों के साथ घुमने जाते है.में यह आदत को खाराप आदत नहीं बोल रहे है,यह एक आछा आदत है.लेकिन कभी कभी फ्री समय में आपने माता पिता के साथ भी घुमने जाए.बहुत बार ऐसा भी होता है की उनलोग कभी कही घुमने जाते है और जब हामे भी ले जाना चाहता है लेकिन हम जादा से जादा बार नहीं जाते है.लेकिन यह आदत को आगर हाम बदल लेते है तोह ही आछा है.क्यों की आपको भी उनलोगों के साथ घुमने जानेका आदत बानाना होगा.इससे एकसाथ में आप सब एक अच्छा समय बिता सकते है.

माता पिता के जरूरतों  को पूरन करे 

उनलोगों को कब क्या जरुरत है उसके उपर थोडा ख्याल राखे.हो सकता है आपके माता पिता को खाने में कुछ चीज जैसे मीठा/माछी  जादा पसंद है,तोह आप कभी उन्हें उनके पसंदिता चीज लाकर उन्हें खिलाये.या फिर कोई भी तिवार में उनके लिए कपडे और भी जरूरतों के चीजो के उपर भी ध्यान देना होगा.और ख़ास करके खाने पिने में कभी भी कमी नहीं रहना चाहिए.

जरुरत के उपर आपने घर के काम में भी सहायता करे

आगर घर में कोई भी काम पे आपका जरुरत पढ़े तोह आप जरुर वोहा योगदान करे.आजके दिन में जादातर हमसब ऐसे ही करते है की कभी भी अगर माता पिता मार्किट से कुछ लाने बोल देता है तोह हाम कुछ ना कुछ बाहाना बाना देते है जिससे हामे वोह सामान लाना ना पढ़े,लेकिन हम ऐसा क्यों करते है?आगर हाम कोई भी बाहाना ना बानाकर जोह काम बाताते है वोह कर देते है तोह उनको भी बहुत आछा लागेगा.और आप हामेशा यह सोचिये की आप जोह भी काम कर रहे है वोह सिर्फ आपके घर के लिए कर रहे है इसमें बाहाना बानानेका क्या जरुरत है.

जोह काम आपके माता पिता को पसंद नहीं है वोह काम ना करे

ऐसे बहुत कुछ काम है जोह की आपके माता पिता को पसंद नहीं है.उसमे हो सकता है की आप देर से घर आते है,धूमपान करते है,या फिर आप घर में कुछ और काम पे नाम करके पैसे लेकर उससे कोई बेकार के काम पे खर्चा करते है.यह सब काम ना करे जिससे आपके माता पिता को बिरक्त होना पढ़े.

आप क्या कर रहे है और क्या नहीं वोह भी बाताये 

आप कब क्या कर रहे है वोह सब आपके माता पिता के साथ शेयर करे.कब वोह आपको पूछेगा की आप काहा जा रहे है या फिर काहा है ,ऐसा ना सोचकर आप पहले से ही बाता के जाने का आदत राखे.और उन्हें निश्चित राखने का कौशिश करे इस उनलोग भी खुश रहेंगे.

आपनी माता पिता को कैसे खुश राखे?

मन की बात :दोस्तों इस पोस्ट को लिखने से  पहले में सोचा था की बहुत लंबा लिखूंगा,फिर लिखते के बाद में देखा की बहुत ही बड़े पोस्ट हो जा राहा है,इसीलिए थोडा छोटे शब्दों में लिखने का कोशिस किया हु.माता पिता हामारे अभिभावक है,हामारे चिन्ह उनलोगों के वजह से ही  है.उनलोगों ने ही हामे छोटे से बढे तक पयार से पाला है नहीं तोह हम आजके दिन में यहाँतक नहीं पहुच पाता था.इसीलिए  हामेशा उनलोगों के उपर  ध्यान राखना जरुरी समझता हु,और उन्हें हामेश खुश राखना भी  जरुरी है.

दोस्तों उम्मीद करता हु की इस पोस्ट से आप समझ सकते है की कैसे आपने माता पिता को खुश राख सकते है.और आपने माता पिता को खुश राखना जरुरी क्यों है वोह भी समझ सकते है.और इस पोस्ट से जुड़े हुए आपके मन में और भी कोई सावाल है तोह आप निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बाताने ना भूले.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.